Barish Shayari

Barish Shayari (बारिश शायरी) Shayari On Barish, ब्यूटीफुल बारिश शायरी This rain shayaris is post for the first time, which is best for you, this rain shayari, love barish shayari, baarish shayari 2 line, funny barish shayari, Barish Shayari Gulzar, Dosti Barish Shayari, Barish Shayari in Hindi, Barish Shayari Ghalib, Shayari on Rain in Hindi.

toot padti thi

Barsaat Shayari

toot padti thi ghataen jin ki aankhen dekh kar
vo bhari barasat mein tarase hain paani ke lie
टूट पड़ती थीं घटाएँ जिन की आँखें देख कर
वो भरी बरसात में तरसे हैं पानी के लिए

aaj fir mausam nam hua meri aankhon ki tarah
shayad badalo ka bhi dil kisi ne toda hoga
आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आँखों की तरह
शायद बादलो का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा

koy to barish aisi ho jo tere saath barase
tanha to meri aakhen har roz barasaati hain
कोई तो बारिश ऐसी हो जो तेरे साथ बरसे
तन्हा तो मेरी ऑंखें हर रोज़ बरसाती हैं

pehli barish hoti

Barsaat Shayari Romantic

pehli barish hoti thi to yaad aate the
ab jab yaad aate ho to barish hoti haii
पहले बारिश होती थी तो याद आते थे
अब जब याद आते हो तो बारिश होती है

in barishon se dosti achchi nahi faraz
kaccha makan hai tera kuchh to khayal kar
इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फ़राज़
कच्चा मकान है तेरा कुछ तो ख्याल कर

baarishein kuch is tarah se hoti hai mujhpe
khwahishen sukhati rahi aur palaken rotei rahi
बारिशें कुछ इस तरह से होती रहीं मुझ पे
ख्वाहिशें सूखती रहीं और पलकें रोतीं रहीं

ham bhigote hain

Barish Shayari Love

ham bhigote hain jis tarah se teri yaadon mein
doobakar is baarish mein kahaan vo kashish tere khyaalon jaisi
हम भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूबकर
इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी

kal raat mainne saare gam aasamaan ko suna die
aaj main chup hoon aur aasamaan baras raha hai
कल रात मैंने सारे ग़म आसमान को सुना दिए
आज मैं चुप हूँ और आसमान बरस रहा है

tapish aur badh gai in chand boondon ke baad
kaale siyaah baadalo ne bhi bas yoon hee bahalaya mujhe
तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद
काले सियाह बादलो ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे

majbooriyan odh ke

Barish Par Shayari

majbooriyan odh ke nikalata hoon ghar se aajakal
varana shauk to aaj bhi hai barisho mein bhigane ka
मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का

main tere hijr ki barasat mein kab tak bheegoon
aise mausam mein to divaare bhi gir jaati hain
मैं तेरे हिज्र की बरसात में कब तक भीगूँ
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती हैं

barish aur mohabbat dono hi yadagar hote hain
barish mein jism bhigata hai aur mohabbat mein aankhen
बारिश और मोहब्बत दोनो ही यादगार होते हैं
बारिश में जिस्म भीगता है और मोहब्बत में आँखें

hairat se takta hai

Barsaat Shayari in Hindi

hairat se takta hai hai sahara baarish ke nazarane ko
kitani door se aaee hai ye ret se haath milane ko
हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को

kahei phisal na jao jara sambhal ke chalana
mausam baarish ka bhi hai aur mohabbat ka bhi
कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना
मौसम बारिश का भी है और मोहब्बत का भी

is dfa to barishen rookati hee nahin faraaz
hamane kya aansu pie ke sare mausam ro pade
इस दफा तो बारिशें रूकती ही नहीं फ़राज़
हमने क्या आँसू पिए के सारे मौसम रो पड़े