Hindi Poetry

Hindi Poetry (हिंदी पोएट्री) Poetry in Hindi: What is Hindi poetry? Poetry in hindi is such a medium through which we can easily tell our heart to anyone through our mobile status. And those who want to tell, they also understand with great ease what is in our heart. That is why in today's era, a big search of Hindi poetry is being seen on Google, we have seen when a special day comes like friendship day or promise day and on many such days, poetry in hindi is trending on Google. That's why a page of Hindi poetry has been created on imhindi.com so that you people can get all these posts.

aa dekh meri aankhon mein

Love Poetry in Hindi

आ देख मेरी आंखों में भीगे हुए मौसम,
ये किसने कह दिया की तुझे भूल गए हम।

मैं तुम्हें चांद कह दू ये तो मुमकिन है,
मगर लोग तुम्हे रातभर देखे ये मुझे गवारा नहीं।

कोई अपना हो तो आईने जैसा हो,
जो हँसे भी साथ और रोए भी साथ।

hum nibhane me lage

Sad Poetry in Hindi

हम निभाने में लगे थे
वो बहाने बनाने में लगे थे

इश्क़ है या कुछ और ये पता नहीं,
पर जो तुमसे है किसी और से नहीं।

मै कैसे कहू की उसका साथ कैसा है,
वो एक शख्स पुरे कायनात जैसा है।

takleef bhi miti nahi

Best Hindi Poetry Lines

तकलीफ़ भी मिटी नहीं दर्द भी रह गया
पता नही आंसुओं के साथ क्या-क्या बह गया.

तेरा होना ही मेरे लिये खास है,
तू दूर ही सही मगर मेरे दिल के पास है।

मुझे तेरा साथ ज़िन्दगी भर नहीं चाहिये,
बल्कि जब तक तू साथ है तबतक ज़िन्दगी चाहिए।

andar se koi

Poetry in Hindi on Love

अंदर कोई झाके तो टुकड़ो में मिलूंगा
यह हँसता हुआ चेहरा तो जमाने के लिए है

तुझसे मोहब्बत कुछ अलग सी है मेरी,
तुझे खयालो में नहीं दुआओ में याद करते है।

दिल दिया है आपको जान भी देंगे,
रहो खुश हमेशा हम रब से दुआ करेंगे !

waqt nikal jane ke

Poetry on Hindi

waqt nikal jane ke baad jo kadar
hoti hai vo kadar nhi afsos hota hai.
वक़्त निकल जाने के बाद जो कदर
होती है वो कदर नहीं अफसोस होता है।

bahut jaruri nahin hoon main
magar mere bagair kuchh kami jarur rahegi .
बहुत ज़रूरी नहीं हूं मैं
मगर मेरे बगैर कुछ कमी ज़रूर रहेगी।

sacchi mohabbat mein ek usool hota hain
mahaboob dil bhi dukhaye to qubool hota hain
सच्ची मोहब्बत में एक उसूल होता हैं
महबूब दिल भी दुखाये तो कुबूल होता हैं।