Maut Shayari

Maut Shayari, मौत शायरी, Death Shayari

lambi umar ki dua

lambi umar ki dua

lambi umar ki dua mere liye na mang
aisa na ho ki tum bhi khor do aur maut bhi na aaye
लंबी उमर की दुआ मेरे लिए न मगो
ऐसा ना हो की तुम भी छोड़ दो और मौत भी ना आए

tmaam umar jo

tmaam umar jo

tmaam umar jo humse berukhi ki sbne
kfan me hum bhi azezo se mujh chupa ke chale
तमाम उम्र जो हमसे बेरुखी की सबने
कफ़न में हम भी अज़ीज़ो से मुझ छुपा के चले

tum smajhte ho

tum smajhte ho

tum smajhte ho ki jeene ki tlab hai mujhko
mai to es aas me zinda hoon ki mrna kab hai
तुम समझते हो कि जीने की तलब है मुझको
में तो इस आस में ज़िंदा हूँ की मरणा कब है

zara chupchap to baitho

zara chupchap to baitho

zara chupchap to baitho ki dum aaram se nikle
edhar hum hicki lete hai udhar tum rone lagte ho
ज़रा चुपचाप तो बैठा की दम आराम से निकले
इधर हम हिचकी लेते है उधर तुम रोने लगते हो

mil jayenge kuch

mil jayenge kuch

mil jayenge kuch hmari bhi tareef karne wale
koy hmari mout ki afwah to udaao yaaro
मिल जायेंगे कुछ हमारी भी तारीफ करने वाले
कोय हमारी मौत की अफवाह तो उडाओ यारो