Bewafa Ki Shayari

aap ki yaad aati

Aap Ki Yaad Aati Rahee Raat Bhar
Chashm-E-Nam Muskuraatee Rahee Raat Bhar
आप की याद आती रही रात भर
चश्म-ए-नम मुस्कुराती रही रात भर

Aur Bhee Dukh Hain Zamaane Mein Mohabbat Ke Siva
Raahaten Aur Bhee Hain Vasl Kee Raahat Ke Siva
और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

Bewafa Shayari