jo desh ki hifazat

jo desh ki hifazat

jo desh ki hifazat ke lie sarahad par aate hain
aksar unake ishq ke kisse adhure rah jaate hain
जो देश की हिफाजत के लिए सरहद पर आते हैं
अक्सर उनके इश्क के किस्से अधूरे रह जाते हैं

Army Shayari