maa tere doodh ka

maa tere doodh ka

maa tere doodh ka haq mujhse ada kya hoga
tu hai naaraaj to khush mujhase khuda kya hoga
मां तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा
तू है नाराज तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा

zamin se uthaakar aasamaan tak pahunchaaya
meri maa thi vo jisane mujhe chalana sikhaaya
ज़मीन से उठाकर आसमान तक पहुंचाया
मेरी माँ थी वो जिसने मुझे चलना सिखाया

seedha-saadha bhola-bhaala main hi sabase sachcha hoon
kitana bhi ho jaoon bada maa aaj bhi tera bachcha hoon
सीधा-साधा भोला-भाला मैं ही सबसे सच्चा हूँ
कितना भी हो जाऊं बड़ा माँ आज भी तेरा बच्चा हूँ

Maa Shayari