na jane kaisi nazar

na jane kaisi nazar

na jane kaisi nazar lagi hai zamane ki
kamabkhat vajah hi nahi milati muskurane ki
न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की
कमब्खत वजह ही नही मिलती मुस्कुराने की

Smile Shayari