subah hote hi shaam ka

subah hote hi

subah hote hi shaam ka intazaar karata hoon
jisane mujhe dard diya usi ko yaad karata hoon
सुबह होते ही शाम का इंतज़ार करता हूँ
जिसने मुझे दर्द दिया उसी को याद करता हूँ

Mood Off Shayari