upar jiska ant nahi

upar jiska ant nahi

upar jiska ant nahi use aasman kahate hain
jahaan mein jiska ant nahi use maa kahate hain
ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं
जहां में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हैं

ab bhi chalati hai jab aandhi kabhi gam ki
maan ki mamata mujhe baahon mein chhoopa leti hai
अब भी चलती है जब आंधी कभी गम की
माँ की ममता मुझे बाहों में छूपा लेती है

maan sar par jo haath phaire to himmat mil jae
maan ek baar muskura de to jannat mil jae
माँ सर पर जो हाथ फैरे तो हिम्मत मिल जाए
माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाए

Mothers Day Shayari