Hindi Shayari हिंदी शायरी

hindi shayri, shayari, shayari in hindi, हिंदी शायरी, best all in one hindi shayari, latest shayari, new shayari, top shayari

bas utni hi hai zindagi

bas utni hi hai zindagi

jitne din tak ji gayi bas utni hi hai zindagi
mitti ke gul ko ko koi umr nhi hoti
जितने दिन तक जी गई बस उतनी ही है ज़िन्दगी
मिटटी के गुलको को कोई उम्र नहीं होती

mil gaya hoga

mil gaya hoga

mil gaya hoga koi gazab ka humsafar
warna mera yaar yoon bdanle wala naa tha
मिल गया होगा कोई गज़ब का हमसफ़र
वरना मेरा यार यूँ बदनले वाला ना था

hum aaj bhi chahte hai

hum aaj bhi chahte hai

hum aaj bhi chahte hai hmesha ki trha tujhko
koun kahta hai ki faslo ne hmari mohabbat ko kum kar di
हम आज भी चाहते है हमेशा की तरह तुझको
कौन कहता है कि फसलो ने हमारी मोहब्बत को कम कर दी

tere ishq ka wayras

tere ishq ka wayras

tere ishq ka wayras dil me lag gya
tu aise kleen kar de warna mujhe hang kar dega
तेरे ईश्क का वायरस दिल में लग गया
तू ऐसे क्लीन कर दे वरना मुझे हैंग कर देगा

.
aankho ki nazar se nahi

aankho ki nazar se nahi

aankho ki nazar se nahi tum dil ki nazar se pyaar karte hai
aap dikhe ya naa dikhe phir bhi hum unka deedar karte hai
आँखों की नज़र से नहीं तुम दिल की नज़र से प्यार करते है
आप दिखे या ना दिखे फिर भी हम उनका दीदार करते है

kismat kharab hoti hai

kismat kharab hoti hai

jiska dil sacha hota hai naa
aksar unhi ki kismat kharab hoti hai
जिसका दिल सच्चा होता है ना
अक्सर उन्हीं की किस्मत ख़राब होती है

adhoori chahat me

adhoori chahat me

thoda ishq khud se bhi kar loon
adhoori chahat me sabse jyada takleef khud ko hi di hai
थोड़ा इश्क खुद से भी कर लूं
अधूरी चाहत में सबसे ज्यादा तकलीफ खुद को ही दी है

wo mujhse bichad ke

wo mujhse bichad ke

wo mujhse bichad ke ab tak nahi roya
koi to humdard hai uska jisne meri yaad tak na aane di
वो मुझसे बिछड़ के अब तक नहीं रोया
कोई तो हमदर्द है उसका जिसने मेरी याद तक न आने दी

mai khawahish ban jaau

mai khawahish ban jaau

mai khawahish ban jaau aour too rooh ki tlab
bas yuhi jee lenge dono mohabbat bankar
मै खवाहिश बन जाऊ आओर तू रूह की तलब
बस यही जी लेंगे दोनों मोहब्बत बनकर

bras ke ishq tu bhi

bras ke ishq tu bhi

katra katra aag ban ke jal rahi hai yaadein teri
bras ke ishq tu bhi dil ki lagi bujha
कतरा कतरा आग बन के जल रही है यादें तेरी
ब्रस के इश्क़ तू भी दिल की लगी बुझा