Attitude Shayari

Attitude Shayari In Hindi: Latest Collection of attitude shayari attitude shayari 2020, attitude shayari in hindi for love, attitude shayari in english, my attitude shayari, attitude shayari in hindi, khatarnak attitude shayari, attitude shayari image, life attitude shayari, attitude shayari in hindi facebook and boss attitude shayari, Read Attitude Shayari.

meri mizaaz ko

Attitude Shayari images

meri mizaaz ko samajhne ke liye bas itna hi kafi hai
mai uska hargiz nhi hota jo har ek ka ho jaye
मेरी मिज़ाज़ को समझने के लिए बस इतना ही काफी है
मई उसका हरगिज़ नही होता जो हर एक का हो जाये

Log Agar Yun Hi Kamiyan Nikalte Rahe Toh
Ek Din Sirf Khubiyan Hi Reh Jayengi Mujh Mein
अगर लोग यूँ ही कमियां निकालते रहे तो
एक दिन सिर्फ खूबियाँ ही रह जायेगी मुझमें

agr pyar se koi

Attitude Shayari 2020

agr pyar se koi phook mare to bujh jayenge
nafrat se to bade bade toofan bujh gye mujhe bujhane me
अगर प्यार से कोई फूंक मारे तो बुझ जाएंगे
नफरत से तो बड़े बड़े तूफ़ान बुझ गये मुझे बुझाने में

Be-Matlab Ki Zindgi Ka SilSila Khatm
Ab Jis Tarah Ki Duniya Uss Tarah Ke Hum
बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म
अब जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम

teri mohabbat pe

Attitude Shayari in Hindi

teri mohabbat pe mera haq to nhi par dil chahta hai
aakhri sans tak tera intzaar karoo
तेरी मोहब्बत पे मेरा हक तो नही पर दिल चाहता है
आखरी सांस तक तेरा इंतज़ार करू

Hum Basa Lenge Ek Duniya Kisi Aur Ke Saath
Tere Aage Royein Ab Itne Bhi Begairat Nahi Hain Hum
हम बसा लेंगें एक दुनिया किसी और के साथ
तेरे आगे रोयें अब इतने भी बेगैरत नहीं हैं हम

jisko jana hai wo

Khatarnak Attitude Shayari

jisko jana hai wo chala jata hai
use hmare rone se bhi koy fark nhi padta
जिसको जाना है वो चला जाता है
उसे हमारे रोने से भी कोई फर्क नहीं पड़ता

Khote Sikke Jo Abhi Abhi Chale Hain Baajar Mein
Woh Kamiyan Nikal Rahe Hain Mere Kirdaar Mein
खोटे सिक्के जो अभी अभी चले हैं बाजार में
वो कमियाँ निकाल रहे हैं मेरे किरदार में

hum na badlenge

Attitude shayari in English

hum na badlenge waqt ki raftaar ke saath
jab bhi milenge andaaz purana hoga
हम न बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ
जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा

Abhi Sheesha Hun Sabki Aankho Mein Chubhta Hun
Jab Aayina Banunga Saara Jahaan Dekhega
अभी शीशा हूँ सबकी आँखों में चुभता हूं
जब आईना बनूँगा सारा जहाँ देखेगा

paida to sabhi marne

Attitude Shayari Hindi Me

paida to sabhi marne ke liye hi hote hai ae dosto
par maiut aesi honi chahiye jis par jmana afsosh kare
पैदा तो सभी मरने के लिए ही होते है ऐ दोस्तों
पर मइयत ऐसी होनी चाहिए जिस पर जमाना अफसोस करे

Dushmano Ko Sazaa Dene Ki Ek Tehzeeb Hai Meri
Main Haath Nahi Uthhata Bas Najron Se Gira Deta Hun
दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ

pyaar ishq mohabbat

Hindi Attitude Shayari Photo

pyaar ishq mohabbat sab dhoke bazi hai
apni laife me sirf attitude hi kafi hai
प्यार इश्क मोहब्बत सब धोखे बाज़ी है
अपनी लैफे में सिर्फ ऐटिटूड ही काफी है

Bewaqt. Bewahaj. Behisaab. Muskura Deta Hun
Aadhe Dushmano Ko Toh Yun Hi Haraa Deta Hun
बेवक़्त. बेवजह. बेहिसाब. मुस्कुरा देता हूँ
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ

kal se ek hi kaam hoga

Attitude Shayari Wallpaper

kal se ek hi kaam hoga hamara hi naam hoga
aur dushmano ka kaam tamaam hoga
कल से एक ही काम होगा हमारा ही नाम होगा
और दुश्मनो का काम तमाम होगा

Ruthha Hua Hai Mujhse Iss Baat Par Zamana
Shamil Nahin Hai Meri Fitrat Mein Sar Jhukana
रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना

kyu na guroor karoon mai

Boy Attitude Shayari

kyu na guroor karoon mai apne aap pe
mujhe usne chaha hai jiske chahne wale hazaar the
क्यों न ग़ुरूर करून मै अपने आप पे
मुझे उसने चाहा है जिसके चाहने वाले हज़ार थे

Aksar Wohi Log Uthate Hain Hum Par Ungliyan
Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti
अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती

mahgi padegi ye dushmani

Girl Attitude Shayari

usne kha mahgi padegi ye dushmani
maine bhi kha sasta to mai kajal bhi nahi lagti
उसने कहा महँगी पड़ेगी ये दुश्मनी
मैंने भी कहा सस्ता तो मैं काजल भी नहीं लगती

Aisa Nahi Ke Kad Apne Ghat Gaye
Chadar Ko Apni Dekh Kar Hum Khud Simat Gaye
ऐसा नहीं कि कद अपने घट गए
चादर को अपनी देख कर हम खुद सिमट गए