Bewafa Shayari

Bewafa Shayari in Hindi: Read The Best Collection Of Bewafa Shayari (Disloyal Poetry) & SMS You Can Share These Bewafa Shayari With Your Girlfriend And Boyfriend Bewafa Shayari (बेवफाई शायरी) Shayari On Bewafai in Hindi Sad Bewafa Shayari.

माना की हम गलत थे तुझसे मोहब्बत कर बैठे
रोये गी तू भी ऐसी वफा की तलाश में

छोड़ की किसी से वफ़ा की तलाश
जो रूठ सकते है वो भूल भी सकते है

दिल वाले हम तो मोहब्बत में दिल जला बैठे
मेरी तकदीर ऐसी थी एक बेवफा से दिल लगा बैठे

रो पड़ा है आसमा भी मेरी वफ़ा को देख कर
देख तेरी बेवफाई की बात बदलो तक जा पहुंची

आया था इम्तिहान में मजमून बेवफाई का
तेरे बारे में लिख कर हम टॉप कर गए

ab judai ke safar ko

Shayari On Bewafa

Ab Judai Ke Safar Ko Mire Aasaan Karo
Tum Mujhe Khvaab Mein Aa Kar Na Pareshaan Karo
अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो
तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो

Aur To Kya Tha Bechane Ke Lie
Apanee Aankhon Ke Khvaab Beche Hain
और तो क्या था बेचने के लिए
अपनी आँखों के ख़्वाब बेचे हैं

chaahie khud pe yaqeen

Bahut Bewafa Shayari

Chaahie Khud Pe Yaqeen-E-Kaamil
Hausala Kis Ka Badhaata Hai Koy
चाहिए ख़ुद पे यक़ीन-ए-कामिल
हौसला किस का बढ़ाता है कोई

Dhoop Mein Nikalo Ghataon Mein Naha Kar Dekho
Zindagee Kya Hai Kitaabon Ko Hata Kar Dekho
धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो

dard aisa hai ki chaahe

Bewafa shayari For Girlfriend

Dard Aisa Hai Ki Chaahe Hai Zinda Rahie
Zindagee Aisee Ki Mar Jaane Ko Jee Chaahe Hai
दर्द ऐसा है कि जी चाहे है ज़िंदा रहिए
ज़िंदगी ऐसी कि मर जाने को जी चाहे है

Dekha Hai Zindagee Ko Kuchh Itane Qareeb Se
Chehare Tamaam Lagane Lage Hain Ajeeb Se
देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

aap ki yaad aati

Bewafa Ki Shayari

Aap Ki Yaad Aati Rahee Raat Bhar
Chashm-E-Nam Muskuraatee Rahee Raat Bhar
आप की याद आती रही रात भर
चश्म-ए-नम मुस्कुराती रही रात भर

Aur Bhee Dukh Hain Zamaane Mein Mohabbat Ke Siva
Raahaten Aur Bhee Hain Vasl Kee Raahat Ke Siva
और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

aaj dekha hai tujhko

Bewafa Pe Shayari

Aaj Dekha Hai Tujhko Der Ke Baad
Aaj Ka Din Guzar Na Jae Kahin
आज देखा है तुझको देर के बाद
आज का दिन गुज़र न जाए कहीं

Aankhen Jo Uthae To Mohabbat Ka Gumaan Ho
Nazaron Ko Jhukae To Shikaayat Si Lage Hai
आँखें जो उठाए तो मोहब्बत का गुमाँ हो
नज़रों को झुकाए तो शिकायत सी लगे है