Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari: dard bhari shayari When there is a tremendous pain in someone's heart, these emotions come out in the form of dard shayari. dard bhari shayari hindi mai, dard bhari shayari in hindi, dard bhari shayari in hindi 160, dard bhari shayari english, dard bhari shayari hindi mein, dard bhari shayari in hindi for girlfriend, sabse dard bhari shayari, dard bhari shayari in hindi with images and best dard shayari.

sache aashiq hai hum

gam bhari shayari photo download

tere aise sache aashiq hai hum
dil me jiske pyar na ho kabhi kum
sache pyar me to zindagi mehak jati hai
na jane hmari aankhe kyu hai nam

तेरे ऐसे सच्चे आशिक़ है हम
दिलमे जिसके प्यार न हो कभी कम
सच्चे प्यार में तो ज़िन्दगी महक जाती है
ना जाने हमारी आँखे क्यों है नम

tumko lekar mera khyaal

dard bhari photo

tumko lekar mera khayal nahi badlega
saal badlega magar dil ka haal nahi badlega
तुमको लेकर मेरा ख्याल नही बदलेगा
साल बदलेगा मगर दिल का हाल नहीं बदलेगा

jakham hi dena to pura jism tere huwale tha
beraham tune waar kiya wo bhi dil hi waar kiya
जख्म ही देना तो पूरा जिस्म तेरे हवाले था
बे रहम तूने वार क्या वो भी दिल ही वार क्या

nzar aur naseeb me

dard bhari shayari photo download

nzar aur naseeb me bhi kya ittefaq hai
nazar use hi psand karti hai jo nasheeb me nhi hota
नज़र और नसीब में भी क्या इत्तफ़ाक़ है
नज़र उसे ही पसंद करती है जो नसीब में नही होता

kal raat wo shaks mere khuwabo ka bhi katal kar gaya
log kitna muqaam rakhte hai chod jane ke baad
कल रात वो शख्स मेरे खवाबो का भी काटल कर गया
लोग कितना मुक़ाम रखते है छोड़ जाने के बाद

mohabbat ki kahani likhna

dard bhari shayari in hindi photo download

kitna mushkil hai mohabbat ki kahani likhna
jaise pani se pani pe pani likhna
कितना मुश्किल है मोहब्बत की कहानी लिखना
जैसे पानी से पानी पे पानी लिखना

milta bhi nahi tumhare jaise is saher man
humko kya maloom tha ki tum bhi kisi aur ke ho
मिलता भी नहीं तुम्हारे जैसे इस शहर में
हमको क्या मालूम था के तुम भी किसी और के हो

mere dard ki kahani

gam shayari photo

bhut zuda hai auron se mere dard ki kahani
zakhm ka koi nishan nahi aur dard ki koi intha nhi
बहुत जुदा है औरों से मेरे दर्द की कहानी
ज़ख्म का कोई निशान नहीं और दर्द की कोई इंतहा नही

wo mujhe se bichda to jaise bichad gayi zindgi
main zinda to hoon par zinda nahi raha
वो मुझे से बिछड़े तो जैसे बिछड़ गयी ज़िन्दगी
मैं ज़िंदा तो हूँ पर ज़िंदा नहीं रहा