kabhi sikha hi nahi

kabhi sikha hi nahi

nafrat karna to hune kabhi sikha hi nahi
maine to dard ko bhi chaha hai apna samajh kar
नफरत करना तो हुने कभी सीखा ही नहीं
मैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर

Read More