Hindi Shayari Dosti Ke Liye

manzil par pahuch kar

manzil par pahuch kar likhunga mai in rasto ki mushkilon ka zikr
abhi to bas aage badhne se fursat nahi
मंज़िल पर पहुँच कर लिखूँगा मै इन रास्तों की मुश्किलों का ज़िक्र
अभी तो बस आगे बढ़ने से फुर्सत नहीं

Dosti Shayari