Mere Hi Khoon Se

mere hi khoon se sad shayari

duba hai mera badan mere hi khoon se
ye kanch ke tukdo pe bharose ki saza hai
डूबा है मेरा बदन मेरे ही खून से
ये कांच के टुकड़ों पे भरोसे की सजा है

Read More