Sad Shayari in Hindi

mohabbat hai ya nasha tha

mohabbat hai ya nasha tha jo bhi tha kamal ka tha
rooh tak utarte utarte jism ko khokhla kar gaya
मोहब्बत है या नशा था जो भी था कमाल का था
रूह तक उतारते उतारते जिस्म को खोखला कर गया😭

tum mujhe jitni izzat de sakte the de di
ab tum dekho mera sabar aur meri khamoshi
तुम मुझे जितनी इज़्ज़त दे सकते थे दे दी
अब तुम देखो मेरा सबर और मेरी ख़ामोशी

Khan Milta Hai Ab Koi Smajhne Wala
Jobhi Milta Hai Samjha Ke Chala Jata Hai
कहाँ मिलता है अब कोई समझने वाला
जोभी मिलता है समझा के चला जाता है

Sad Shayari