Advance Holi Shayari

rangon mein ghui

rangon mein ghui ladaki kya laal gulaabee hai
jo dekhata hai kahata hai kya maal gulaabee hai
pichhale baras toone jo bhigoya tha holee mein
ab tak nishaanee ka vo rumaal gulaabee hai

रंगों में घुली लड़की क्या लाल गुलाबी है
जो देखता है कहता है क्या माल गुलाबी है
पिछले बरस तूने जो भिगोया था होली में
अब तक निशानी का वो रुमाल गुलाबी है

Holi Shayari