Aye Zindagi Shayari

sza ban jati hai

sza ban jati hai gujre huye waqt ki yaande
na jane kyu chor jane ke liye zindagi me aaye the
सज़ा बन जाती है गुज़रे हुए वक़्त की यांदे
न जाने क्यों चोर जाने के लिए ज़िन्दगी में आये थे

Zindagi Shayari