New Hindi Sad Shayari

zakhm de kar na pooch

zakhm de kar na pooch too mere dard ki shiddat
dar to fir dard hai kam kya jyada kya
ज़ख़्म दे कर ना पूछ तू मेरे दर्द की शिद्दत
दर तो फिर दर्द है काम क्या ज्यादा क्या

muddaton baad bhi nahi milte hum jaise nayab log
tere haath kiya lag gaye tumne to hamhe aam samjh liya
मुद्दतों बाद भी नहीं मिलते हम जैसे नायाब लोग
तेरे हाथ क्या लग गए तुमने तो हमे आम समझ लिया

Sad Shayari