Jindagi Ki Shayari

zindagi tuhi bta

Zindagi Tuhi Bta Kaise Tujhe Pyaar Karoon
Teri Har Ek Subah Mujhe Apno Se Duri Ka Ehsaas Deti Hai
ज़िन्दगी तुहि बता कैसे तूझे प्यार करूं
तेरी हर एक सुबह मुझे अपनों से दूरी का एहसास देती है

Wo Log Aate Q Hai Zindagi Mein Hamare
Jise Bichhadhna Hota Jin Ko Kisi Bahane Se
वो लोग आते क्यू है ज़िन्दगी में हमारे
जिसे बिछड़ना होता जिन को किसी बहाने से

Khusi Mili Has Na Sake Gum Mila To Ro Na Sake Zindagi Ka Yahi Dastur Hai
Jise Chaha Use Pa Na Sake Aur Jise Paya Use Chaha Na Sake
खुशी मिली है न सके गम मिला तो रो न सके ज़िन्दगी का यही दस्तूर है
जिसे चाहा उसे पा न सके और जिसे पाया उसे चाह न सके

Zindagi Shayari