imHindi.com

Attitude Shayari

Paida To Sabhi Marne

Paida To Sabhi Marne Ke Liye Hi Hote Hai Ae Dosto
Par Maiut Aesi Honi Chahiye Jis Par Jmana Afsosh Kare
पैदा तो सभी मरने के लिए ही होते है ऐ दोस्तों
पर मइयत ऐसी होनी चाहिए जिस पर जमाना अफसोस करे

Dushmano Ko Sazaa Dene Ki Ek Tehzeeb Hai Meri
Main Haath Nahi Uthhata Bas Najron Se Gira Deta Hun
दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ
Paida To Sabhi Marne

Pyaar ishq Mohabbat

Pyaar Ishq Mohabbat Sab Dhoke Bazi Hai
Apni Laife Me Sirf Attitude Hi Kafi Hai
प्यार इश्क मोहब्बत सब धोखे बाज़ी है
अपनी लैफे में सिर्फ ऐटिटूड ही काफी है

Bewaqt. Bewahaj. Behisaab. Muskura Deta Hun
Aadhe Dushmano Ko Toh Yun Hi Haraa Deta Hun
बेवक़्त. बेवजह. बेहिसाब. मुस्कुरा देता हूँ
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ
Pyaar ishq Mohabbat

Kal Se Ek Hi Kaam Hoga

Kal Se Ek Hi Kaam Hoga Hamara Hi Naam Hoga
Aur Dushmano Ka Kaam Tamaam Hoga
कल से एक ही काम होगा हमारा ही नाम होगा
और दुश्मनो का काम तमाम होगा

Ruthha Hua Hai Mujhse Iss Baat Par Zamana
Shamil Nahin Hai Meri Fitrat Mein Sar Jhukana
रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना
Kal Se Ek Hi Kaam Hoga

Kyu Na Guroor Karoon Mai

Kyu Na Guroor Karoon Mai Apne Aap Pe
Mujhe Usne Chaha Hai Jiske Chahne Wale Hazaar The
क्यों न ग़ुरूर करून मै अपने आप पे
मुझे उसने चाहा है जिसके चाहने वाले हज़ार थे

Aksar Wohi Log Uthate Hain Hum Par Ungliyan
Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti
अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती
Kyu Na Guroor Karoon Mai

Mahgi Padegi Ye Dushmani

Usne Kha Mahgi Padegi Ye Dushmani
Maine Bhi Kha Sasta To Mai Kajal Bhi Nahi Lagti
उसने कहा महँगी पड़ेगी ये दुश्मनी
मैंने भी कहा सस्ता तो मैं काजल भी नहीं लगती

Aisa Nahi Ke Kad Apne Ghat Gaye
Chadar Ko Apni Dekh Kar Hum Khud Simat Gaye
ऐसा नहीं कि कद अपने घट गए
चादर को अपनी देख कर हम खुद सिमट गए
Mahgi Padegi Ye Dushmani
All Next