Bewafa Shayari

Bewafa Shayari in Hindi: Read The Best Collection Of Bewafa Shayari (Disloyal Poetry) & SMS You Can Share These Bewafa Shayari With Your Girlfriend And Boyfriend Bewafa Shayari (बेवफाई शायरी) Shayari On Bewafai in Hindi Sad Bewafa Shayari.

माना की हम गलत थे तुझसे मोहब्बत कर बैठे
रोये गी तू भी ऐसी वफा की तलाश में

छोड़ की किसी से वफ़ा की तलाश
जो रूठ सकते है वो भूल भी सकते है

दिल वाले हम तो मोहब्बत में दिल जला बैठे
मेरी तकदीर ऐसी थी एक बेवफा से दिल लगा बैठे

रो पड़ा है आसमा भी मेरी वफ़ा को देख कर
देख तेरी बेवफाई की बात बदलो तक जा पहुंची

आया था इम्तिहान में मजमून बेवफाई का
तेरे बारे में लिख कर हम टॉप कर गए

haath chhute bhi

haath chhute bhi

haath chhooten bhee to rishte nahin chhoda karate
vaqt kee shaakh se lamhe nahin toda karate
हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

kuchh phaisala to ho ki kidhar jaana chaahie
paanee ko ab to sar se guzar jaana chaahie
कुछ फैसला तो हो कि किधर जाना चाहिए
पानी को अब तो सर से गुज़र जाना चाहिए

mere rone ki haqeeqat

mere rone ki haqeeqat

mere rone kee haqeeqat jisamen thee
ek muddat tak vo kaagaz nam raha
मेरे रोने की हक़ीक़त जिसमें थी
एक मुद्दत तक वो काग़ज़ नम रहा

vo dil hee kya tere milane kee jo dua na kare
main tujhe bhool ke zinda rahoon khuda na kare
वो दिल ही क्या तेरे मिलने की जो दुआ न करे
मैं तुझे भूल के ज़िंदा रहूं ख़ुदा न करे

ham bhi kya zindagi

ham bhi kya zindagi

ham bhi kya zindagi guzaar gae
dil kee baazee laga ke haar gae
हम भी क्या ज़िन्दगी गुज़ार गए
दिल की बाज़ी लगा के हार गए

is raaste ke naam likho ek shaam aur
ya is mein raushanee ka karo intizaam aur
इस रास्ते के नाम लिखो एक शाम और
या इस में रौशनी का करो इंतिज़ाम और

aasman itni bulandi

aasman itni bulandi

aasman itni bulandi pe jo itaraata hai
bhool jaata hai zameen se hee nazar aata hai
आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है

bak raha hoon junoon mein kya kya kuchh
kuchh na samajhe khuda kare koee
बक रहा हूँ जुनूँ में क्या क्या कुछ
कुछ न समझे ख़ुदा करे कोई

ajab charagh hoon

ajab charagh hoon

ajab charagh hoon din raat jalata rahata hoon
main thak gaya hoon hava se kaho bujhae mujhe
अजब चराग़ हूँ दिन रात जलता रहता हूँ
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाए मुझे

dil mein kisee ke raah kie ja raha hoon main
kitana haseen gunaah kie ja raha hoon main दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं