imHindi.com

Hindi Poets

harivansh rai bachchan

हरिवंशराय बच्चन: चायवाद (रोमांटिक) पीढ़ी के इस मशाल वाहक का जन्म 27 नवंबर, 1907 को इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उन्हें 'मधुशाला' के लिए जाना जाता है - छंदों की एक पुस्तक। उन्होंने हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में प्रचारित करने में बहुत मेहनत की। विदेश मंत्रालय में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने कुछ प्रमुख कार्यों का हिंदी में अनुवाद किया, जिनमें ओथेलो, मैकबेथ, भगवद गीता, रूबैयत और डब्ल्यू.बी. येट्स। उनके अन्य प्रशंसित कार्यों के अलावा, चार भाग वाली धारावाहिक जीवनी, 'क्या भूलून क्या याद करूं', 'नीड का निर्माण फिर', 'बसरे से दूर' और आखिरी 'दशद्वार से सोपान तक' का भी उल्लेख करने की आवश्यकता है। 18 जनवरी 2003 को उनका निधन हो गया।
harivansh rai bachchan

Maithili Sharan Gupt

मैथिली शरण गुप्त 03 अगस्त, 1889 को उत्तर प्रदेश के झांसी के चिरगांव में जन्मे मैथिलीशरण गुप्त आधुनिक हिंदी साहित्य के प्रतिष्ठित कवि थे। उन्होंने ही हिन्दी लेखन में खड़ी बोली - एक बोली - का परिचय दिया था। उनके हड़ताली छंद हैं, 'साकेत', 'रंग में भंग', 'भारत भारती', 'प्लासी का युद्ध' और 'काबा कर्बला'। वे संक्षेप में भारतीय राजनीति से भी जुड़े रहे। उन्होंने 2 दिसंबर 1964 को अंतिम सांस ली।
Maithili Sharan Gupt

Makhanlal Chaturvedi

माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल, 1889 को मध्य प्रदेश के बवई गांव में हुआ था। पंडित माखनलाल चतुर्वेदी हिन्दी साहित्य के प्रख्यात कवि थे। वे 'प्रभा' और 'कर्मवीर' जैसी राष्ट्रीय पत्रिकाओं के संपादक थे। उनकी कविताओं के संग्रह में शामिल हैं, 'हिम तरंगिनी', 'समर्पण', 'युग चरण', 'दीप से दीप जले', 'साहित्य देवता', 'कैसा चांद बना देती है' और 'पुष्प की अभिलाषा'। वह 1954 में अपने काम 'हिम तरंगिनी' के लिए प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार के पहले प्राप्तकर्ता थे। 30 जनवरी, 1968 को उनका निधन हो गया।
Makhanlal Chaturvedi

Kabir Das

कबीर एक आध्यात्मिक कवि थे जिनका जन्म 1440 में भारत में हुआ था। उन्हें संत कबीर के नाम से जाना जाता था, क्योंकि उनके लेखन ने भक्ति आंदोलन, सिख धर्म, संत मत और कबीर पंथ को प्रमुख रूप से प्रभावित किया है। उनकी काव्य रचनाओं में बीजक, कबीर गढ़वाली, सखी ग्रंथ और अनुराग सागर शामिल हैं। वह पहले भारतीय संत थे जिन्होंने अपने दोहों के माध्यम से हिंदुओं और मुसलमानों दोनों के बीच सांप्रदायिक सद्भाव लाया। कबीर ने अपने दर्शन में वकालत की है कि जीवन दो आध्यात्मिक सिद्धांतों, व्यक्तिगत आत्मा (जीवात्मा) और ईश्वर (परमात्मा) का परस्पर संबंध है। कबीर की यह विचारधारा है कि मोक्ष इन दोनों सत्ताओं को एक करने की प्रक्रिया है। सन् १५१८ में संत कबीर की मृत्यु हो गई।
Kabir Das
All Next