Dard Wali Shayari

nzar aur naseeb me

nzar aur naseeb me bhi kya ittefaq hai
nazar use hi psand karti hai jo nasheeb me nhi hota
नज़र और नसीब में भी क्या इत्तफ़ाक़ है
नज़र उसे ही पसंद करती है जो नसीब में नही होता

kal raat wo shaks mere khuwabo ka bhi katal kar gaya
log kitna muqaam rakhte hai chod jane ke baad
कल रात वो शख्स मेरे खवाबो का भी काटल कर गया
लोग कितना मुक़ाम रखते है छोड़ जाने के बाद

mai mar jaau to use khar tak bhi naa hone dena
wo sakhsh masroof bhut hai kahi uska waqt barbaad na ho jaye
मै मर जाऊ तो उसे खार तक भी ना होने देना
वो सख्श मसरूफ बहुत है कही उसका वक़्त बर्बाद न हो जाये

Dard Bhari Shayari