Ghalib Shayari

Ghalib poetry, Mirza Ghalib shayari, Ghalib quotes, Ghalib ki shayari, Mirza Ghalib shayari in Hindi, Galib ki shayari, Ghalib ke sher.

galiyan kha ke

galiyan kha ke

कितने शिरीन हैं तेरे लब के रक़ीब
गालियां खा के बेमज़ा न हुआ
कुछ तो पढ़िए की लोग कहते हैं
आज ग़ालिब गजलसारा न हुआ

es nzakat ka

es nzakat ka

इस नज़ाकत का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आएँ तो उन्हें हाथ लगाए न बने
कह सके कौन के यह जलवागरी किस की है
पर्दा छोड़ा है वो उस ने के उठाये न बने

sabne pahna tha

sabne pahna tha

सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले
अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं ज़ंज़ीर हिलाने वाले

aaj hi huaa manzoor

aaj hi huaa manzoor

मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना
मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते ग़ालिब
अर्श से इधर होता काश के माकन अपना

hasrat dil me hai

hasrat dil me hai

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है