Lajawab Shayari

Lajawab Shayari in Hindi (लाजवाब शायरी) Shayari On Lajawab page pe aap ka swagat hai aaj humne best lajwab shayari post kiye hai ummed karte hai ki aap ko lajwab shayari psand aayenge.

na jaane kyun woh

na jaane kyun woh

na jaane kyun woh hamen muskura ke milate hai
andar se sare gam chhupa kar milate hai
janate hain aankhe sach bol jati hai
shayad esi liye wo nazar jhuka kar milate hai

ना जाने क्यों वो हमें मुस्कुरा के मिलते है
अंदर से सारे गम छुपा कर मिलते है
जानते हैं आँखे सच बोल जाती है
शायद इसी लिये वोनज़र झुका कर मिलते है

tum mil gaye to

tum mil gaye to

tum mil gaye to mujh se naraj hai khuda
kahata hai ki too ab kuchh maangata nahin hai
तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा
कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है

kisi ne poocha

kisi ne poocha

kisi ne poocha sachchi mohabbat ki nishaani kya hai.
mainne kaha isake baad kisi se mohabbat na ho
किसी ने पूछा सच्ची मोहब्बत की निशानी क्या है.
मैंने कहा इसके बाद किसी से मोहब्बत न हो

na jaane kis tarah

na jaane kis tarah

na jaane kis tarah ka ishq kar rahe hain ham
jisake ho nahin sakate usei ke ho rahe hain ham
न जाने किस तरह का इश्क कर रहे हैं हम
जिसके हो नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम

suna hai log jahan

suna hai log jahan

suna hai log jahan khoen vahin milate hain
main apane aapako tujhame talash karata hoon
सुना है लोग जहाँ खोएं वहीँ मिलते हैं
मैं अपने आपको तुझमे तलाश करता हूँ