Rajasthani Shayari

sanchi sanchi

साँची साँची कहु एक बात थारे बिना किंया बीते म्हारी रात
म्हारी नजरो से जद भी तू दूर जावे मन्नै थारी ओळू आवे

Marwadi Shayari