Rose Day 2022 Shayari

tere bagair kisi aur ko

tere bagair kisi aur ko dekha nahin maine
sookh gaya tera gulaab magar feka nahin maine
तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने
सूख गया तेरा गुलाब मगर फ़ेका नहीं मैंने

बड़े ही चुपके से भेजा था
मेरे मेहबूब ने मुझे एक गुलाब
कम्भख्त उसकी खुशबू ने
सारे शहर में हंगामा कर दिया

फूलों जैसी लवों पर हसी हो
जीवन में आपको कोई न बेबसी हो
ले आये हम प्यारा सा गुलाब आपके लिए
बस इस गुलाब जैसी प्यारी आपकी जिन्दगी हो

Rose Day Shayari